क्योँकि ये जिन्दगी मेरी है…………….

होते हैँ दर्द सभी को,
हर कोई आहेँ भरता है, पर नहीँ है जगह गमोँ के लिए,
मेरी जिन्दगी मेँ,
क्योँकि ये मेरी जिन्दगी है,
यहाँ सब कुछ चलता है,
माना नहीँ हर इन्सान,
इस दुनिया मेँ खुशियोँ के संग पलता हैं,
और हम भी हैँ उनसे एक,
पर ये मेरी जिन्दगी है,
यहाँ सब कुछ चलता है,
माना हर कोई हमारे आगे ,
अपने गमोँ की बात करता है,
पर फिर भी हम गमोँ को छुपाये सुब्ध खडे रहते हैँ,
क्योँकि ये जिन्दगी मेरी है,
यहाँ सब कुछ चलता है,
माना हर किसी को जिन्दगी मेँ,
किसी अपने होने का एहसास खलता है,
हम अकेले ही भले हैँ,
क्योँकि ये जिन्दगी मेरी है,
यहाँ सब कुछ चलता है,
माना देख के हर किसी की तरक्की,
हर किसी का दिल जलता है,
पर अभी हम चलेँ हैँ,
दूर साहिल के किनारोँ पे,
क्योँकि ये जिन्दगी मेरी है,
यहाँ सब कुछ चलता है,
देख कर इस दुनिया मेँ,
असुरक्षा को हर कोई डरता है,
फिर भी हभ निर्भय खडे हैँ,
क्योँकि ये जिन्दगी मेरी है,
यहाँ सब कुछ चलता है……………………..